Tags

मोदी जी नें संयुक्त राष्ट्र संघ से कहा है कि वो आतंकवाद पर काबू लगाए अन्यथा संयुक्त राष्ट्र संघ अप्रासंगिक हो जायेगा .

मोदी जी नें यह भी कहा है कि संयुक्त राष्ट्र संघ आतंकवाद को परिभाषित करे .

सुन कर मुझे झटका सा लगा .

मैंने सोचा कि हम आतंकवाद को परिभाषित करने के लिए भी किसी दूसरे के ऊपर निर्भर क्यों हैं ? हर व्यक्ति को आतंकवाद को समझना और परिभाषित करना चाहिये .

मैं अपनी समझ से आतंकवाद को सरल रूप में परिभाषित करने की कोशिश करता हूँ

किसी भी व्यक्ति या समुदाय को डराने और आतंकित करने के लिए किया जाने वाला कोई भी काम आतंकवाद है चाहे वो किसी भी उद्देश्य से किया गया हो .

डराने और आतंकित करने का काम करने वाले निम्नांकित में से कोई भी हो सकते हैं

कोई क्षेत्रीय संघ या संगठन

कोई धर्मिक समूह

कोई व्यक्ति

कोई राजनैतिक संगठन

सरकारें

अब हम इस आधार पर आतंकवाद की कुछ घटनाओं की पड़ताल करते हैं .

दलितों की बस्तियां जला दिया जाना और उनके आरोपियों को बरी कर दिया जाना आतंकवाद है या नहीं ?

भारत के धार्मिक अल्पसंख्यकों को सरकारी पुलिस द्वारा निशाना लगा कर मार डाला जाना और आरोपी पुलिस वालों को बरी कर दिया जाना आतंकवाद है या नहीं ?

देश भर के किसानों से ज़मीनें छीनने के लिए पुलिस को भेजना , किसानों को जेलों में डाल देना , उनके घर तोड़ देना आतंकवाद है या नहीं ?

आदिवासियों के इलाके में खनिजों पर अमीर कंपनियों का कब्ज़ा करवाने के लिए आदिवासियों के गाँव जला देना , आदिवासी महिलाओं से बलात्कार करना , आदिवासियों की हत्या करना आतंकवाद है या नहीं ?

महिलाओं को थाने में ले जाना उनसे बलात्कार करना उनके गुप्तांगों में पत्थर भर देना , महिलाओं के मुंह पर एसिड पोत देना आतंकवाद है या नहीं ?

किसी के घर में घुस जाना और फ्रिज में रखे मांस को गोमांस की अफवाह उड़ा कर किसी की हत्या कर देना आतंकवाद है या नहीं .

राजधानी की पुलिस के सबसे बड़े अधिकारी द्वारा फर्ज़ी वीडियो बना कर छात्रों को देशद्रोही बताना और जेल में डाल देना आतंकवाद है या नहीं ?

पुलिस द्वारा हैदराबाद विश्वविद्यालय की लड़कियों से कहना कि हम तुम्हारे साथ रेप कर के तुम्हें नंगी कर के पूरे शर में घुमाएंगे आतंकवाद है या नहीं ?

अगर यह सब आतंकवाद है तो आपने भारत राज्य के मुखिया होने के नाते इसे कभी आतंकवाद क्यों नहीं माना ?

और आपने इन आतंकवादी घटनाओं को रोकने के लिए कुछ क्यों नहीं किया ?

मोदी जी आपने अपने वक्तव्य में यह भी कहा है कि हमारा आतंकवादी और तुम्हारा आतंकवादी कोई नहीं होता , आतंकवादी सिर्फ आतंकवादी होता है .

तो अगर यह सब घटनाएँ आतंकवादी घटनाएँ है और इनमें राज्य, सत्ता और ताकतवर समुदाय के लोग शामिल हैं तो आप इन के विरुद्ध कार्यवाही क्यों नहीं कर रहे हैं ?

और अगर आप अपने हिस्से के विश्व में आतंकवाद को रोकने के लिये कार्यवाही करने के लिए तैयार नहीं हैं तो संयुक्त राष्ट्र संघ से आतंकवाद रोकने की मांग करना क्या आपका पाखंड नहीं है ?

आतंकवाद पर काबू ना लगाने के कारण अगर संयुक्त राष्ट्र संघ अप्रासंगिक हो सकता है तो अपने देश के भीतर सरकारी और शक्तिशाली समुदाय के आतंकवाद पर काबू ना लगा पाने के कारण भारतीय राज्य भी अप्रासंगिक हो सकता है .

इसलिए अगर आपको सचमुच भारत राज्य और शासन को बचाना है तो आतंकवाद पर कार्यवाही करिये .

मोदी जी हम दुनिया से आतंकवाद को सचमुच खतम करना चाहते हैं .

जनता आतंकवाद के तले कराह रही है .

करोड़ों किसान, आदिवासी , दलित आतंक की चक्की में पिस रहे हैं और आप इस आतंकवादी कामों के मुखिया बने हुए हैं .

आतंकवाद को समाप्त कीजिये .

Advertisements